रायपुर. छत्तीसगढ़ के पेंड्रा में गुरुवार को कांग्रेस से निष्कासित मरवाही विधायक अमित जोगी न सिर्फ गरजे बल्कि इशारों-इशारों में बरसे भी. उन्होंने कहा कि जोगी परिवार कोई डाल नहीं है जिसे कोई उखाड़ कर फेंक दे.
 
जूनियर जोगी अपने विधानसभा क्षेत्र में निष्कासन के बाद पहली बार शक्ति-प्रदर्शन कर रहे हैं. करीब सवा सौ गाड़ियों के काफिले के साथ आभार रैली निकाली गई जो पेंड्रा रोड से मरवाही पहुंची. मरवाही में एक सभा का आयोजन किया गया जिसमें करीब 10 हजार से ज्यादा लोग जुटे.
 
अमित जोगी ने कहा, “जोगी परिवार कोई डाल नहीं है जिसे कोई उखाड़ कर फेंक दे. यह एक विशाल पेड़ है जो प्रदेश भर में फैला है- बीजापुर से लेकर बलरामपुर तक. प्रदेश आदिवासियों का है और इसे आदिवासी प्रदेश बनाकर रहेंगे.”
 
अमित दिल्ली से संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से पेंड्रारोड पहुंचे जहां पहले से मौजूद समर्थकों ने उनका भव्य स्वागत किया. उन्होंने गौरेला, पेंड्रा, दुबटिया, कोटमी समेत कई जगहों पर समर्थकों को संबोधित किया. अमित जोगी के साथ गुंडरदेही के कांग्रेस विधायक आरके राय भी हैं. 
 
बता दें कि बिलासपुर जिला कांग्रेस ने हाल ही में बैठक कर फैसला लिया था कि पार्टी से निष्कासित लोगों का साथ देने वालों को भी निष्कासित किया जाएगा. बताया जा रहा है कि विधायक दिलीप लहरिया, सियाराम कौशिक और चुन्नीलाल साहू भी रैली में शामिल होने वाले थे लेकिन ट्रेन लेट होने के कारण नहीं पहुंच सके.