लखनऊ. समाजवादी पार्टी (सपा) के विधान पार्षद (एमएलसी) व युवा नेता आशू मलिक ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि स्मार्ट सिटी के मामले में मोदी सरकार ने यूपी की जनता के साथ धोखा दिया है. उन्होंने कहा कि जिस राज्य ने केंद्र को 73 सांसद, प्रधानमंत्री व मंत्री दिए, आज उसी सूबे के लोग खाली हाथ हैं.
 
उन्होंने आगे कहा कि सूबे के एक भी शहर को केंद्र सरकार ने स्मार्ट सिटी योजना में शामिल नहीं किया है, जबकि खूनी व्यापम महाघोटाले वाले राज्य मध्यप्रदेश के तीन शहरों को इस योजना में शामिल किया गया है, क्योंकि वहां बीजेपी की सरकार है.
 
एसपी एमएलसी ने कहा कि सूबे के लोग अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं. बीजेपी को यह भेदभाव काफी महंगा पड़ेगा. उन्होंने कहा कि बीजेपी को कम से कम लखनऊ और बनारस को तो इस सूची में शामिल कर लेना चाहिए था. इस सूची के सामने आने के बाद सूबे के विकास की बात करने वाली बीजेपी का ‘असली चेहरा’ जनता के सामने आ गया है. 
 
मलिक ने कहा कि बीजेपी राम के नाम पर लोगों को मूर्ख बना रही है. राम का सम्मान तो मुसलमान भी करते हैं. वोट के लिए आस्था के मुद्दे पर राजनीति नहीं की जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि बीजेपी का आचरण मर्यादा पुरुषोत्तम राम की मर्यादा के बिल्कुल विपरीत है. यह पार्टी राम के नाम का जाप केवल कुर्सी पाने के लिए करती रही है. इनकी कुर्सियों के नीचे लाशों के ढेर हैं.