नई दिल्ली. अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में अहम भूमिका निभाने वाले अरुण शौरी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला. शौरी ने कहा मोदी देश की अर्थव्यस्था को ठीक से नहीं चला पा रहे और उन्हें अल्पसंख्यकों पर हो रहे जुबानी हमलों पर भी आंख मूंदे रखने के लिए भी जिम्मेदार ठहराया. शौरी ने बराक ओबामा से मुलाकात के दौरान 10 लाख का सूट पहनने के लिए भी मोदी की आलोचना की.

मोदी सरकार की पहली सालगिरह के मौके पर शौरी ने ‘हेडलाइंस टुडे’ को एक्सक्लूसिव इंटरव्यू दिया और कहा कि बीजेपी को नरेंद्र मोदी, अमित शाह और अरुण जेटली की त्रिमूर्ति चला रही है. शौरी एनडीए की पहली सरकार में संचार, सूचना और प्रत्यक्ष निवेश के मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं. वाजपेयी के दौर में वे बीजेपी के सबसे कद्दावर नेताओं में गिने जाते थे, लेकिन मोदी सरकार में उन्हें कोई जगह नहीं मिली. जब शौरी से पूछा गया कि मोदी सरकार ने 8 फीसदी विकास दर के लिए पर्याप्त प्रयास किए हैं, जो जल्दी 10 फीसदी तक भी जा सकती है तो शौरी बोले, ‘सब अतिश्योक्ति है’. उन्होंने कहा कि इस तरह के दावे सिर्फ सुर्खियां बटोरने के लिए जाते हैं, लेकिन इनमें वास्तविकता नहीं होती.

शौरी ने कहा, ‘नीतियों को सही अंजाम तक पहुंचाने की बजाय सरकार का ज्यादा ध्यान हेडलाइंस में बने रहने पर है.’ उन्होंने बराक ओबामा के साथ मुलाकात के साथ दौरान प्रधानमंत्री के उस सूट पहनने को भी उनकी बड़ी गलती बताया, जिसमें हर जगह मोदी का छोटे-छोटे अक्षरों में नाम लिखा था.  इस सूट को लेकर प्रधानमंत्री की काफी आलोचना हुई थी और उसे बाद में उन्होंने गंगा सफाई अभियान के लिए नीलाम कर दिया था. शौरी ने कहा, ‘मैं समझ नहीं पाया कि मोदी ने वो सूट क्यों स्वीकार किया. आप गांधी का नाम लेकर ऐसी चीजें नहीं पहन सकते.’