लखनऊ. उत्तर प्रदेश में विधानसभा सत्र की शुरुआत शुक्रवार को हंगामेदार रही. सत्र के पहले दिन ही विपक्ष ने एकजुट होकर राज्यपाल राम नाइक पर हमला बोला. उनके अभिभाषण शुरू करते ही बसपा, कांग्रेस व रालोद के सदस्यों ने सदन के बीचों बीच आकर नारेबाजी की और राज्यपाल वापस जाओ के नारे लगाए.
 
भारी विरोध के बीच राज्यपाल ने अभिभाषण पढ़ने का कोरम पूरा किया. विपक्षी दलों ने एकजुटता का परिचय देते हुए सपा और बीजेपी के बीच साठगांठ होने का आरोप लगाया. इस दौरान बीजेपी हंगामे से दूर नजर आई.
 
किसानों के मामले में चुप है सरकार
राज्यपाल का अभिभाषण पूरा होने के बाद विधानसभा में विपक्ष के नेता और बीएसपी के स्वामी प्रसाद मौर्य ने बातचीत में राज्यपाल के साथ ही बीजेपी पर भी निशाना साधा. मौर्य ने राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि बुंदेलखंड से किसानों का पलायन हो रहा है. आरक्षण को समाप्त करने की साजिश रची जा रही है. सूखा प्रभावित किसानों को 23 रुपये और 70 रुपये का चेक देने का घिनौना काम हो रहा है. 
 
बजट सत्र शुरू होते ही हुआ हंगामा
इससे पूर्व, सुबह 11 बजे विधानसभा में बजट सत्र शुरू होते ही विपक्षी विधायकों ने पोस्टर और बैनर लहराने शुरू कर दिए. बीएसपी, रालोद और कांग्रेस विधायकों ने ‘राज्यपाल वापस जाओ’ व ‘पानी बिजली दे न सके जो, वो सरकार निकम्मी है’ जैसे नारे लगाए. राज्यपाल राम नाइक ने भारी विरोध के बीच सरकार की ओर से अभिभाषण पढ़ा.  उन्होंने इस दौरान सरकार की उपलब्धियों को बखान किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि पिछले चार सालों के दौरान सरकार ने अपने सभी वादे पूरे करने का काम किया. सरकार ने किसानों के हितों के लिए काफी कदम उठाए हैं. 
 
12 फरवरी को बजट पेश करेंगे CM
विधानसभा की कार्यवाही 29 जनवरी से 11 मार्च तक चलेगी. 12 फरवरी को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपनी सरकार के वित्त मंत्री के रूप में साल 2016-17 का बजट पेंश करेंगे.