बीकानेर. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के लिए राजस्थान से अच्छी खबर है. वसुंधरा राजे सरकार ने उनकी कंपनी के जिस जमीन सौदे की जांच का आदेश दिया था पुलिस ने उसकी जांच के बाद कहा है कि वाड्रा ने गड़बड़ी नहीं की बल्कि उनके साथ फ्रॉड हुआ था.
 
वसुंधरा राजे सरकार ने 2014 में प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा की कंपनी स्काई लाइट हॉस्पिटैलिटी को करीब 70 एकड़ जमीन बेचने की जांच का आदेश दिया था. स्काई लाइट ने 2010 में खरीदी गई इस जमीन को 2012 में एलिगेनी फिनलीज प्राइवेट लिमिटेड को बेच दिया था.
 
सरकारी जमीन को फर्जी कागजात बनाकर वाड्रा को बेचा गया
 
अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक बीकानेर के डीएसपी राम अवतार सोनी ने कहा है कि जमीन के इस सौदे में वाड्रा के साथ जालसाजी करके उन्हें धोखा दिया गया. पुलिस के मुताबिक ये सरकार की जमीन थी जिसे फर्जी पेपर बनाकर वाड्रा को बेचा गया.
 
बीकानेर पुलिस ने सरकारी जमीन पर कब्जा करने को लेकर कुल 18 केस दर्ज किए हैं जिनमें 4 केस वाड्रा की कंपनी स्काई लाइट को बेची गई जमीन से जुड़ी है. पुलिस ने 9 लोगों को इस माममें में आरोपी बनाया है जिनमें 6 गिरफ्तार कर लिए गए हैं.
 
पुलिस की जांच से ये पता चला है कि इन लोगों ने सरकारी जमीन के फर्जी पेपर बनाए और वाड्रा की कंपनी स्काई लाइट को बेच दिया जिसे आगे वाड्रा ने एलिगेनी फिनलीज को बेचा.
 
 

As I have always Said, truth will Prevail !!

Posted by Robert Vadra on Monday, January 25, 2016