पटना. रोहतास में खनन माफिया की चूलें हिला देने वाले एसपी शिवदीप लांडे के महज 6 महीने में ट्रांसफर को लेकर IB ने एक सनसनीखेज किया है. केंद्र सरकार को सौंपी रिपोर्ट में बताया गया है कि खनन माफियाओं ने लांडे का ट्रांसफर करवाया था जिस साजिश में पुलिस के लोग भी शामिल थे.
 
2006 बैच के IPS अधिकारी लांडे इस समय एसटीएफ में एसपी के तौर पर तैनात हैं. लांडे की जिन-जिन जिलों या शहरों में पोस्टिंग हुई वो वहां अपनी कार्यशैली से हमेशा चर्चा में बने रहे. लांडे जब रोहतास के एसपी थे तो खनन माफिया के क्रशर यूनिट पर खुद जेसीबी मशीन चलाने लगे थे जो फोटो ऊपर लगी हुई है.
 
लांडे पर जानलेवा हमला भी हुआ था रोहतास में
 
सूत्रों का कहना है कि आईबी की रिपोर्ट में बताया गया है कि रोहतास एसपी के तौर पर लांडे ने सासाराम इलाके के गोपीबिगहा क्षेत्र में खनन माफियाओं पर कहर बरपा दिया था. अवैध तरीके से चल रही कई क्रशर यूनिट को लांडे ने ध्वस्त कर दिया था.
 
लांडे ने एक दिन में 500 ट्रक जब्त किए थे और जुर्माना में 71 लाख वसूले थे. लांडे पर खनन से जुड़े लोगों ने गोली और पत्थर भी चलाए थे लेकिन वो बाल-बाल बच गए.
 
लांडे के जाने के बाद पांच महीने में मात्र 2 बार खनन माफियाओं पर छापा
 
लांडे के ट्रांसफर के बाद रोहतास में पिछले पांच महीने में खनन माफियाओं के खिलाफ मात्र 2 पर छापा मारा गया है. हालांकि रोहतास के मौजूदा एसपी एमएस ढ़िल्लन का कहना है कि राज्य चुनाव में बिजी होने के कारण हाल में एक्शन नहीं हो पाया.
 
अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ में छपी ख़बर के अनुसार आईबी रिपोर्ट में तीन डीएसपी, एक एएसपी और एक डीआईजी का भी नाम है जिन लोगों ने लांडे का रोहतास से ट्रांसफर कराने या खनन माफियाओं को मदद पहुंचाने में दिमाग लगाया.