हैदराबाद. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र सरकार से कहा है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक सरकार अयोध्या में अपने जोकरों पर लगाम लगाए. उन्होंने विश्व हिंदू परिषद (विहिप) द्वारा वहां पत्थर और खंभे लाए जाने के काम पर रोक लगाने का भी अनुरोध किया है.
 
ओवैसी ने कहा कि विहिप, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस), बजरंग दल व किसी अन्य संगठन को किसी भी तरह की कार्रवाई से रोकने के लिए तत्काल कदम उठाना चाहिए.
 
ईद मिलाद-उन-नबी के मौके पर एमआईएम द्वारा आयोजित एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक सरकार अपने जोकरों पर लगाम लगाएगी.” उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा सरकार को पत्थरों को जब्त कर लेना चाहिए था. ओवैसी ने कहा, “ऐसा लगता है कि वहां नूरा-कुश्ती (सपा व विहिप के बीच सुनियोजित लड़ाई) चल रही है.”
 
संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान की ओर इशारा करते हुए ओवैसी ने पूछा कि उनका जीवन क्या सुप्रीम कोर्ट की शुचिता से ज्यादा महत्वपूर्ण है. भागवत ने एक बयान में कहा था कि वह अपने जीवन काल में अयोध्या में भव्य राम मंदिर देखना चाहते हैं.