नई दिल्ली. बीजेपी सांसद कीर्ति आजाद को निलंबित किए जाने के बाद अब पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने भी पार्टी नेतृत्व के खिलाफ आवाज़ बुलंद कर दी है. सूत्रों के मुताबिक पार्टी के मार्गदर्शक मंडल में शामिल आडवाणी और जोशी के साथ-साथ ये नेता भी चाहते हैं कि जेटली के खिलाफ डीडीसीए को लेकर लगे आरोपों की जांच कराई जाए.
 
गुरूवार सुबह मुरली मनोहर जोशी के घर पहुंचे. यशवंत सिन्हा और शांता कुमार भी वहां मौजूद थे. माना जा रहा है कि कीर्ति को निलंबित किए जाने के मुद्दे पर चारों दिग्गज नेतओं के बीच इस मुद्दे पर लंबी बातचीत भी हुई है. डीडीसीए में कथित गड़बड़ियों को लेकर कीर्ति लंबे समय से आवाज उठाते रहे हैं. पिछले दिनों भी कीर्ति आजाद ने पीसी कर ये मांग दोहराई थी. उसके बाद बुधवार को पार्टी ने उन्हें निलंबित कर दिया. 
 
भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने खुले तौर पर का समर्थन किया. पिछले दिनों दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि 1999 से लेकर 2013 तक वित्त मंत्री अरुण जेटली डीडीसीए के अध्यक्ष थे और उनके कार्यकाल के दौरान काफी अनियमिताएं और भ्रष्टाचार हुआ. कीर्ति ने इसके बाद डीडीसीए में गड़बड़ियों को लेकर कई खुलासे किए थे. सूत्रों से जानकारी मिली है कि बीजेपी के ये वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के मामले में जांच चाहते हैं. वो चाहते हैं कि अरुण जेटली के खिलाफ जांच कमिशन नियुक्त की जाए. माना जा रहा है कि जेटली के खिलाफ जांच बिठाई जा सकती है.