नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के बीच दिल्ली के हैदराबाद हाउस में हुई सालाना शिखर वार्ता में दोनों देशों के बीच रक्षा उपकरण और बुलेट ट्रेन नेटवर्क के साथ ही कई अहम् समझौतों पर सहमति बनी है. इसके अलावा जापानी नागरिकों के लिए 1 मार्च से वीजा ऑन अराइवल जबकि जापान आगमी 5 साल में भारत में 35 मिलियन का निवेश करेगा.
 
दोनों देशों कि तरफ से जारी साझा बयान में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, बीते एक साल में दोनों देशों के संबंध में तेजी आई है. सिविल न्‍यूक्लियर डील पर समझौता होना अहम बात है. जापान भारत का सबसे अहम सहयोगी है. मेक इन इंडिया में जापान का अहम रोल है. दरअसल, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भारत के तीन दिन के दौरे पर हैं. उनके दौरे के दूसरे दिन की शुरुआत आज दिल्ली में बिजनेस लीडर फोरम से हुई. इस फोरम में जापान के पीएम शिंज़ो आबे के साथ पीएम मोदी भी मौज़ूद थे. फोरम में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि वे हाई स्पीड ट्रेन नहीं, बल्कि हाई स्पीड ग्रोथ भी चाहते हैं. पीएम ने कहा कि ऐसा पहली बार होगा कि भारत से जापान कार आयात करेगा और जापानी कंपनियों की कारें भारत में बनेंगी. उन्होंने कहा कि भारत संभावनाओं का देश है और तकनीक इसकी ताक़त है और जापान में मेक इन इंडिया मिशन चल रहा है।
 
पीएम मोदी की स्पीड बुलेट ट्रेन की तरह: शिंजो आबे
वहीं, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने अपने संबोधन की शुरुआत पीएम मोदी की तारीफ़ से की. उन्होंने कहा कि नीतियों को अमल में लाने में पीएम मोदी की स्पीड बुलेट ट्रेन की तरह है. साथ ही उन्होंने कहा कि मज़बूत जापान भारत के लिए अच्छा है. भारत की पहली बुलेट ट्रेन नेटवर्क के लिए 98,000 करोड़ रुपये के करार के साथ-साथ कई अहम समझौते होने पर भी शिंजो ने ख़ुशी जताई.  वार्ता के बाद दोनों प्रधानमंत्री वाराणसी जाएंगे, जहां दशाश्वमेध घाट की गंगा आरती में होंगे शामिल.