नई दिल्ली. पेरिस पर्यावरण सम्मलेन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तानी पीएम नवाज़ शरीफ की मुलाक़ात के बाद दोनों देशों के बीच बातचीत में आई तेजी पर विपक्ष ने सवाल खड़े किये हैं. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सरकार से पाकिस्तान की नीति पर स्पष्टीकरण मांगा है. वहीं बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने इस मुलाकात का विरोध किया है.
 
शिवसेना ने कहा है, ‘सरकार को देश को विश्वास में लेना चाहिए. पाकिस्तान के साथ किसी भी तरह से रिश्ता रखने में शिव सेना का विश्वास नहीं है.’ शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा, ‘तीसरे मुल्क में जाकर बात होती है, उससे पता चलता है कि दो देशों में संबंध कैसे हैं. पाकिस्तान के साथ किसी भी तरह से रिश्ता रखने में शिव सेना का विश्वास नहीं है.
 
अगर आप पाक-प्रायोजित आतंकवाद पर बात कर रहे हैं तो देश को विश्वास में लेना चाहिए कि क्या बातचीत हो रही है.’ समाजवादी पार्टी ने भी बैंकॉक में पाकिस्तान के साथ हुई बातचीत पर विरोध जताया है. यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने कहा है कि संसद सत्र के दौरान गुपचुप तरीके से बातचीत देश के साथ धोखा है.