नई दिल्ली. देश में असहिष्णुता के मुद्दे पर बहस के बीच चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया तीर्थ सिंह ठाकुर ने कहा कि असहनशीलता का सियासी पहलू भी है. हमें नही लगता असहनशीलता है. देश में सभी धर्मों के लोग रहते है,अलग अलग जगह से लोग यहां आकर रहे. पारसी भी यहां आये और देश के लिए बहुत कुछ किया. लोग यहां आते है और देश उनको स्वीकार करता है.
 
उन्होंने कहा, ”जबतक कोर्ट स्वतंत्र है तबतक किसी को कोई तकलीफ नही होगी. जबतक मानवता है तबतक टकराव होता रहेगा. हमारा वजूद सहनशीलता पर है.सियासी लोग कैसे इसका फायदा लेते है इस पर नही कहूंगा. देश में किसी को डरने की जरूरत नही.”
 
कई अहम मामलों की की है सुनवाई
चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया तीर्थ सिंह ठाकुर सुप्रीम कोर्ट के 43वें मुख्य न्यायधीश हैं. सुप्रीम कोर्ट में अब तक के अपने कार्यकाल में जस्टिस ठाकुर ने कई अहम मामलों की सुनवाई की है जिनमें आईपीएल-6 स्पॉट फिक्सिंग, पश्चिम बंगाल का शाारदा चिट फंड घोटाला, उत्तर प्रदेश का NRHM घोटाला, गंगा का सफाई, और सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय की रिहाई के लिए दायर याचिकाएं शामिल हैं.