नई दिल्ली. मोदी सरकार ने कांग्रेस के पूर्व प्रधानमंत्रियों दिवंगत इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के नाम पर गृह मंत्रालय की ओर से हिंदी दिवस पर दिए जाने वाले सालाना राजभाषा पुरस्कारों का नाम बदल दिया है. ये पुरस्कार सरकार में हिंदी के प्रगतिशील तरीके से उपयोग के लिए दिए जाते हैं. इकनॉमिक्स टाइम्स की खबर के अनुसार, राजभाषा विभाग के 25 मार्च 2015 को जारी किए गए आदेश में दोनों पूर्व प्रधानमंत्रियों के नाम पर दिए जाने वाले पुरस्कारों को बदल दिया गया है.

1986 में शुरू किया गया ‘इंदिरा गांधी राजभाषा पुरस्कार’ अब राजभाषा कीर्ति पुरस्कार के नाम से जाना जाएगा, जबकि ‘राजीव गांधी राष्ट्रीय ज्ञान-विज्ञान मौलिक पुस्तक लेखन पुरस्कार’ को अब राजभाषा गौरव पुरस्कार योजना कहा जाएगा. बता दें कि ये पुरस्कार राष्ट्रपति 14 सितंबर को हिंदी दिवस के मौके पर मंत्रालयों, पीएसयू, केंद्र सरकार के अधिकारियों को देते हैं.