नई दिल्ली. सुब्रमणियन समिति ने जीएसटी(वस्तु एवं सेवा कर) पर अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. रिपोर्ट में 17-18% जीएसटी की सिफारिश की गई है. अगर यह दरें लागू होती है तो सेवाएं काफी महंगी हो जाएंगी. अभी सेवाओं पर 14% सर्विस टैक्स और 0.5% स्वच्छता सेस लगता है. अगर नए दर को लागू किया गया तो सेवाओं पर 17-18% सर्विस टैक्स और 0.5% सेस लगेगा.
 
मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमणियन की अध्यक्षता वाली समिति ने अपनी सिफारिशें शुक्रवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली को सौंप दी है. रिपोर्ट को लेकर वित्त राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि प्रस्तावित दरों पर जीएसटी काउंसिल विचार करेगी. उसके बाद अंतिम फैसला होगा. अभी यह संक्षिप्त रिपोर्ट है. पूरी रिपोर्ट सोमवार को सौंपी जाएगी. सरकार ने 1 अप्रैल 2016 से जीएसटी लागू करने का लक्ष्य रखा है.
 
रिपोर्ट में क्या है?
  • रिपोर्ट में जीएसटी  17-18% जीएसटी की सिफारिश है.
  • पूरी रिपोर्ट में कम से कम टैक्स रेट 12% और अधिक से अधिक 40% है. 
  • अधिकतम रेट लक्जरी कार, पान मसाला और तंबाकू जैसे उत्पादों पर लगेगा. 
  • सोना-चांदी जैसी बहुमूल्य धातुओं पर 2-6% टैक्स लगेगा.
  •  रियल एस्टेट, बिजली, शराब और पेट्रोलियम उत्पादों के लिए किसी टैक्स रेट की सिफारिश नहीं है.
  • वस्तुओं की कीमतें घट सकती हैं. अभी ज्यादातर वस्तुओं पर 12.5% केंद्रीय उत्पाद शुल्क लगता है. राज्य भी 14.5 से 15% तक शुल्क लगाते.