नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को चेन्नई में बाढ़ से प्रभावित इलाकों का एरियल सर्वे किया था. प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) ने उनके इस दौरे की एक फर्जी तस्वीर ट्वीट की जो फोटोशॉप के इस्तेमाल से बनाई गई थी. जैसे ही यह तस्वीर सोशल मीडिया पर पहुंची लोगों ने पीआईबी की इस कलाकारी को पकड़ लिया और तस्वीर वायरल हो गयी.
 
बता दें कि इमेज के वायरल होने के बाद पीआईबी ने उस तस्वीर को डिलीट कर दिया लेकिन तब तक सोशल मीडिया पर इसका अच्छा-खासा मज़ाक बन चुका था. 
 
क्या है मामला
दरअसल, पीएम मोदी गुरुवार को चेन्नई में बाढ़ से प्रभावित इलाकों का एरियल सर्वे किया था. पीआईबी ने इस सर्वे की फोटो जारी की, जिसमें वह हेलिकॉप्टर की विंडो से नीचे का नजारा देख रहे हैं लेकिन ये नजारा ऐसा है जैसे आप बैठकर टीवी पर कोई पिक्चर देख रहे हों. यह इमेज लोगों को ठीक नहीं लगी. असल में इतनी हाईट से ऐसा फोटो और ऐसा नजारा दिखना संभव नहीं है.
 
पीआईबी की इस कलाकारी को लोगों ने पकड़ लिया और तुरंत सोशल मीडिया पर कमेंट करने शुरू कर दिए. बाद में पीआईबी को यह इमेज हटानी पड़ी. उधर, पीएम नरेंद्र मोदी ने भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर यह फोटो डाली लेकिन तब तक पीआईबी की किरकिरी हो चुकी थी.