नई दिल्ली. सरकार की तरफ से संस्कृति मंत्री महेश शर्मा ने सोमवार के दिन लोकसभा में कहा कि सरकार को इस बारे में कोई सबूत नहीं मिला है कि ताजमहल के एक हिंदू मंदिर था. संस्कृति मंत्री ने कहा कि उन्हें इस याचिका के बारे में जानकारी है और ताजमहल के हिंदू मंदिर होने के बारे में सरकार को कोई साक्ष्य नहीं मिला है. 
 
कोर्ट में दायर की गई है याचिका
इस मामले पर आगरा कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी. इस याचिका में कहा गया था कि ताजमहल को हिंदू मंदिर घोषित कर देना चाहिए और इसमें हिंदूओं को भी पूजा करने की अनुमति मिलनी चाहिए.
 
बता दें कि ज्योतिष एवं शारदा पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के मुताबिक आगरा के ताजमहल के नीचे भगवान शिव का मंदिर है. शंकराचार्य ने कहा है कि इसे भक्तों के लिए खोल देना चाहिए. उन्होंने कहा कि ताजमहल की नीचे की दो मंजिलों को खोल देना चाहिए.