नई दिल्ली. गृह मंत्री राजनाथ सिंह और बीजेपी ने सीपीएम नेता मोहम्मद सलीम के ‘हिंदू शासन’ वाले बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया जताई है. राजनाथ ने सलीम के बयान पर घोर आपत्ति जताते हुए कहा है कि या तो सलीम मैंने ऐसा कहा इसके सबूत ने नहीं तो सदन के सामने माफ़ी मांगे. सलीम के बयान के बाद लोकसभा में भारी हंगामा भी देखने को मिला.
 
 
बवाल मचने के बाद सलीम ने कहा कि मेरी मंशा किसी को आहत करने की नहीं थी. मैंने एक मैगजीन में ऐसा बयान पढ़ा था अगर सरकार चाहे तो मैगजीन की जांच करा ले. 
 
लोगों का विरोध बनावटी नहीं
बहस की शुरुआत सीपीएम के मोहम्मद सलीम ने की. उन्होंने कहा कि लोगों का विरोध बनावटी नहीं है. हमारा देश सहनशीलता सिखाता है. बढ़ती असहनशीलता चिंता का विषय है. हर कोई सरकार का विदूषक नहीं होता. असहनशीलता पर पीएम चुप क्यों हैं. देश में मन की बात सुनी नहीं जा रही. आउटगोइंग बातें ही नहीं इनकमिंग भी हो.