नई दिल्ली. राजनीति से संन्यास लेने वाले बयान पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा कि उनके दिए हुए बयान को राजनीति से संन्यास लेने से नहीं जोड़ा जाए. पर्रिकर ने कहा,”मैंने इसे गंभीरतापूर्वक नहीं, बल्कि हल्के में दिया था.”
 
 
इससे पहले गोवा की राजधानी पणजी से 10 किलोमीटर उत्तर में स्थित मापुसा शहर में एक कार्यक्रम के दौरान एक पर्रिकर ने कहा, ”लोगों को 60 साल का होने पर अपने रिटायरमेंट के बारे में सोचना चाहिए.13 दिसंबर को मैं 60 साल का हो जाऊंगा, इसलिए इसे देखते हुए मैंने दो-तीन साल पहले से ही इसके बारे में सोचना शुरू कर दिया था. बड़ी जिम्मेदारी निभाने के प्रति मेरे मन में कोई दिलचस्पी नहीं है.”