Hindi other odisha, vaitarni river, kendujhar district, elephants, elephants in india http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/elephant.png
Home » Other » वीडियो: बच्चे के लिए हाथियों ने खतरे में डाली अपनी जान, बचाने की कोशिश में जुटे लोग

वीडियो: बच्चे के लिए हाथियों ने खतरे में डाली अपनी जान, बचाने की कोशिश में जुटे लोग

वीडियो: बच्चे के लिए हाथियों ने खतरे में डाली अपनी जान, बचाने की कोशिश में जुटे लोग

By Web Desk | Updated: Tuesday, September 6, 2016 - 13:19

to save their calf, elephants put themselves in harm

वीडियो: बच्चे के लिए हाथियों ने खतरे में डाली अपनी जान, बचाने की कोशिश में जुटे लोगto save their calf, elephants put themselves in harmTuesday, September 6, 2016 - 13:19+05:30
नई दिल्ली. ओडिशा में वैतरणी नदी के एक द्वीप पर अपने बच्चे को बचाने आया हाथियों का झुंड फंस गया है. इलाके में भारी बारिश हो रही है. बैतरणी नदी का जलस्तर भी बहुत बढ़ गया है. अब टापू के पास के स्थानीय लोग दिन-रात ​नदी पार करके हाथियों को खाना पहुंचा रहे हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
यह द्वीप क्योंझर जिले में आता है और हाथियों के वहां पर मयूरभंज जिले के सिमिलीपाल राष्ट्रीय उद्यान से आने का अनुमान लगाया जा रहा है। केंदुझार प्रभागीय वन अधिकारी के मुताबिक अभ्यारणय से हाथियों का यह झुंड पटना वन रेंज में भटक गया था. रविवार को वापस लौटते हुए हाथी का एक बच्चा तेज करंट लगने से नदी में बह गया. हाथियों ने अपनी सूंडों को जोड़कर बच्चे को उठाया और उसे नदी के किनारे से 20 फीट दूर ले गए. लेकिन, वहां  घुटने से ऊपर पानी होने के कारण हाथी फंस गये.
 
इन हाथियों के फंसे होने का पता चलने पर टापू के पास के स्थानीय लोग और वन अधिकारी हाथियों को बचाने की कोशिश में जुटे हुए हैं. अधिकारियों के मुताबिक हाथी बड़ी संख्या में लोगों की मौजूदगी के कारण किनारे पर भी जाने से डर रहे थे. अब स्थानीय लोग दिन रात नदी पार करके भूखे हाथियों को धान की बोरियां और नारियल पहुंचा रहे हैं. 
 
अधिकारियों के अनुसार ओडिशा में हाथियों का जीवन खतरों से भरा है. उनका अक्सर इंसानों से आमना-सामना होता रहता है. इसके साथ ही उन्हें अवैध शिकार, करंट लगने, ट्रेन के नीचे आने और कुंए में गिरने का खतरा भी बना रहता है. राज्य सरकार की एक रिपोर्ट के मुताबिक केंदुझार में साल 2002 में 114 हाथी थे, जो अब सिर्फ 47 रह गए हैं.
First Published | Tuesday, September 6, 2016 - 12:11
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: to save their calf, elephants put themselves in harm
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • उत्तराखंड के बद्रीनाथ मंदिर में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
  • मुंबई के केलु रोड स्टेशन पर एक ट्रेन में सवार अभिनेता विवेक ओबेरॉय
  • मुंबई में अभिनेत्री सनी लियोन "ज़ी सिने पुरस्कार 2017" के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • सूफी गायक ममता जोशी, पटना में एक कार्यक्रम के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई देते प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी
  • मुंबई में आयोजित दीनानाथ मंगेसकर स्मारक पुरस्कार समारोह में अभिनेता आमिर खान
  • चेन्नई बंदरगाह पर भारतीय तटरक्षक बल आईसीजीएस शनाक का स्वागत
  • आगरा में ताजमहल देखने पहुंचे आयरलैंड के क्रिकेटर
  • अरुणाचल प्रदेश में सेला दर्रे पर भारी बर्फबारी का एक दृश्य
  • कोलकाता के ईडन गार्डन में वंचित बच्चों की मदद के लिए क्रिकेट खेलने पहुंचे पूर्व क्रिकेटर टीएमसी मंत्री लक्ष्मी रतन सुक्ला