नई दिल्ली: कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ नीच शब्द के इस्तेमाल पर माफी मांग ली है. उन्होंने कहा कि नीच से मेरा मतलब छोटे स्तर का था. अपने बयान पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि हिंदी मेरी मातृ भाषा नहीं है. मैं बोलता तो हिंदी में हूं लेकिन सोचता इंग्लिश में हूं. अगर मेरे शब्द का मतलब कुछ और निकलता है तो मैं इसके लिए माफी मांगता हूं.’

साथ ही मणिशंकर अय्यर ने ये भी कहा कि पीएम मोदी भी हमारे नेताओं के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हैं. मैं कांग्रेस पार्टी में किसी पद पर नहीं हूं. इसलिए मैं पीएम मोदी को उन्हीं की भाषा में जवाब दे सकता हूं. मणिशंकर अय्यर ने ये भी कहा कि ‘मैने पीएम नरेद्र मोदी को कभी चायवाला नहीं कहा. आप चाहें तो इंटरनेट पर वीडियो चेक कर सकते हैं.’

कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पीएम नरेंद्र मोदी को नीच बोलकर फिर एक बार कांग्रेस की फजीहत करा दी है. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मणिशंकर अय्यर को दरबारी बताते हुए कहा कि उनकी सोच बिलकुल दरबारी वाली है. रविशंकर प्रसाद ने मणिशंकर अय्यर के बयान का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने हमारे पीएम को नीच कहा लेकिन हमें अपने प्रधानमंत्री पर गर्व है. इससे पहले सूरत में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने अय्यर के बयान को चुनावी मुद्दा बताते हुए कहा कि कांग्रेस ने मेरी जाति को नीच बताया है.

उन्होंने कहा ‘ हां, मैं नीच जाति से हूं लेकिन मैने आजतक सारे काम ऊंचे ही किए हैं. कांग्रेस पार्टी बताए कि मैने कौन सा नीच काम किया है. हां मैं नीच हूं क्योंकि मै दलित, पिछड़ों और अल्पसंख्यों के लिए काम करता हूं.’ पीएम ने कहा कि मुझे नीच बोलकर कांग्रेस ने गुजरात का अपमान किया है और 18 दिसंबर को गुजरात की जनता जवाब देगी कि नीच कौन है? 

पढ़ें- मणिशंकर अय्यर के नीच आदमी वाले बयान से राहुल गांधी खफा, कहा- उम्मीद है वो माफी मांगेंगे

मणिशंकर के बयान पर PM मोदी का पलटवार, कहा- 18 दिसंबर को जनता बताएगी कौन है नीच