नई दिल्ली. बहुचर्चित सोहराबुद्दीन शेख फर्जी मुठभेड़ मामले की सुनवाई कर रहे सीबीआई जज बीएच लोया के बेटे अनुज लोया ने रविवार को प्रेस कांफ्रेंस कर बड़ा बयान दिया है. अनुज लोया ने जस्टिस लोया की मौत को लेकर उठ रहे तमाम सवालों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि उनके पिता की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में नहीं हुई. उनकी मौत हार्ट अटैक से हुई थी. पत्रकार वार्ता के दौरान अनुज ने कहा कि पिता की मौत को लेकर हमारा किसी पर आरोप नहीं है. 17 वर्षीय अनुज ने कहा कि मुझे किसी पर शक नहीं है इसलिए मुझे इस मामले की जांच की भी जरूरत नहीं है.

अनुज लोया ने कहा कि हमारे परिवार को तीन साल से परेशान किया जा रहा है. अनुज ने अपील करते हुए कहा कि अब आगे हमें परेशान न किया जाए. वकील और एनजीओ हमारे परिवार को परेशान न करें. प्रेस कांफ्रेंस में अनुज लोया के वकील ने कहा कि इस मामले को राजनीतिक रंग दिया जा रहा है, जिसकी जरूरत नहीं है. यह एक दुखद घटना थी और हम इस मामले पर हो रही सियासत का शिकार नहीं होना चाहते.

बता दें कि सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में दिवंगत जस्टिस लोया सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले की सुनवाई कर रहे थे. इस केस में बीजेपी के मौजूदा अध्यक्ष अमित शाह सहित गुजरात के कई बड़े अधिकारियों के नाम थे. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को इस मामले में क्लीन चिट मिल चुकी है. जस्टिस लोया की दिसंबर 2014 में नागपुर में अपने साथी के एक पारिवारिक कार्यक्रम के दौरान मौत हो गई थी. तब खबरें आई थीं कि जस्टिस लोया की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई थी जिसपर सवाल उठ रहे थे. इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट की वकील अनीता शिनॉय ने जनहित याचिका दायर की थी. याचिकाकर्ता ने जस्टिस लोया की मौत की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है जिस पर मंगलवार को सुनवाई होने की संभावना है.

सुप्रीम कोर्ट में जजों के मतभेद पर बोले राहुल गांधी- सवाल गंभीर हैं, ध्यान से देखना चाहिए, जस्टिस लोया की मौत की सर्वोच्च स्तर पर जांच हो