अहमदाबाद. गुजरात चुनाव 2017 के मद्देनजर कांग्रेस के होने वाले अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर 10वां सवाल दागकर निशाना साधा है. राहुल ने इस ट्वीट में गुजरात में आदिवासियों की जमीन, शिक्षा और स्वास्थ्य का मुद्दा उठाया है. राहुल गांधी पिछले कई दिनों से लगातार एक सवाल दागकर बीजेपी के गुजरात में 22 साल के शासन पर उंगली उठा रहे हैं. राहुल गांधी भी पिछले दस दिनों से ट्विटर के जरिए ‘22 सालों का हिसाब, गुजरात मांगे जवाब’ शीर्षक के साथ पीएम मोदी पर हमलावर हैं.

शुक्रवार को ट्विटर पर राहुल ने पीएम नरेंद्र मोदी पर 10वां सवाल कुछ इस तरह दागा. ‘22 सालों का हिसाब गुजरात_मांगे_जवाब, 10 वां सवाल: आदिवासी से छीनी जमीन, नहीं दिया जंगल पर अधिकार, अटके पड़े हैं लाखों जमीन के पट्टे, न चले स्कूल न मिला अस्पताल, न बेघर को घर न युवा को रोजगार , पलायन ने दिया आदिवासी समाज को तोड़, मोदीजी, कहाँ गए वनबंधु योजना के 55 हजार करोड़?’

राहुल ने 10वां सवाल पूरी तरह से आदिवासियों पर फोकस है. राज्य में बीजेपी सरकार के 22 साल के कार्यकाल पर सवाल उठाते हुए पूछा कि आपने जो आदिवासियों की जमीनें छीनकर उद्योगपतियों को दी है. उनके पुनर्वास का क्या हुआ. आदिवासियों के पुनर्वास और कल्याण के लिए वनबंधु योजना के 55 हजार करोड़ के बजट पर भी राहुल गांधी ने सवाल उठाए.

इससे पहले राहुल गांधी ने 7 दिसंबर को 9वां सवाल दागते हुए पूछा था कि गुजरात के किसानों की कर्ज माफी, फसल के दाम, फसल बीमा राशि और सिंचाईं संबंधी संसाधनों की कमी का क्या हुआ. राहुल ने ट्वीट किया, ‘न की कर्ज माफी. न दिया फसल का सही दाम. मिली नहीं फसल बीमा राशि. न हुआ ट्यूबवेल का इंतजाम. खेती पर गब्बर सिंह की मार. छीनी जमीन. अन्नदाता को किया बेकार. PM साहब बतायें, खेडुत के साथ क्यों इतना सौतेला व्यवहार?’

राहुल का PM मोदी से 9वां सवाल, ‘खेती पर गब्बर सिंह की मार, अन्नदाता को किया बेकार’