नई दिल्लीः बीजेपी के वरिष्ठ नेता विनय कटियार ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है. उन्होंने कहा कि दिल्ली की जामा मस्जिद पहले जमुना देवी मंदिर हुआ करता था. उन्होंने कहा कि मुगल शासकों ने भारत में करीब 6,000 मंदिरों को तोड़ा था वहीं ताज महल पहले तेजो महालय था. दरसल इस समय राम मंदिर का मुद्दा गरमाया हुआ है. बुधवार को ही अयोध्या में राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई हैं. वहीं गुजरात विधानसभा चुनाव के चलते इस मुद्दे को हवा दी जा रही है. इससे पहले विनय कटियार ने कांग्रेस नेताओं को बाबर, शाहजहां और औरंगजेब तक कह डाला था.

बीजेपी नेता का विनय कटियार का कहना है कि कांग्रेस जानबूझकर राम मंदिर निर्माण के मामले में अड़ंगा लगा रही है. इसलिए कपिल सिब्बल ने 2019 के बाद सुनवाई की बात कही. उन्होंने कहा कि कपिल सिब्बल सुप्रीम कोर्ट में उन्होंने जो कहा वह गलत है. उन्हीं की वजह से हंगामा मचा हुआ है,नहीं तो अभी तक कबका बन जाता. उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा से इस केस को टालती रही है.

एक निजी चैनल के अनुसार विनय कटियार का कहना था कि अयोध्या का राम मंदिर औरंगजेब ने तोड़ा था. मथुरा और काशी और विश्वनाथ में हमारे मंदिरों को तोड़ा गया है. हम यह विषय उठाना नहीं चाहते. उन्होंने कहा कि दिल्ली की जामा मस्जिद भी जमुना देवी का मंदिर है. अगर इस विषय में पढ़ेंगे तो पता लगेगा कि साढ़ें छह हजार स्थान हमारे हैं. ताजमहल को शिव मंदिर बताने वाले विनय कटियार ने कहा कि ताजमहल का असली नाम तेजोमहालय है जो पहले शिव मंदिर था. उनके मुताबिक शिव मंदिर को तोड़कर ताजमहल बनाया गया था.

यह भी पढ़ें- कपिल सिब्बल की अयोध्या केस 2019 तक टालने की दलील के खिलाफ हैं सुन्नी वक्फ बोर्ड चेयरमैन जफर फारूखी

ताजमहल में नमाज पढ़ना हो बंद वरना शिव चालीसा पढ़ने की दें अनुमति- RSS इतिहास विंग