नई दिल्ली. असहिष्णुता को लेकर एक्टर आमिर खान के बयान से उठे विवाद के बाद संसदीय कार्य मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि कुछ तो लोग गुमराह कर रहे हैं और कुछ गुमराह हैं हीं. उन्होंने आमिर के बयान का जिक्र न करते हुए कहा कि कौन किस श्रेणी में आता है, मैं कहना नहीं चाहता है. कुछ लोग गलत चीजों का प्रचार कर रहे हैं और कुछ दुष्प्रचार के गिरफ्त में आ रहे हैं. मेरा सुझाव यह है कि भारत में स्थिति किसी भी दूसरे देश की स्थिति से बेहतर है. भारत में अधिक सहिष्णुता है. भारत के लोग सहिष्णु हैं.
 
उन्होंने कहा, ” कुछी ही समय पहले हमारी केंद्र में सरकार बनते ही सांप्रदायिक संघर्ष कम हुए हैं. नक्सलियों द्वारा निर्दोष लोगों की हत्या की घटनाएं घटी हैं. उत्पीड़न की घटनाएं भी कम हुई हैं.” 
 
उन्होंने कहा कि दादरी में जो हुआ वो एक हादसा था जो बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया. यह राज्य से जुड़े मुद्दे हैं. राज्य ने इसका दोष केंद्र पर रख दिया. ऐसे कई लोग हैं जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वैश्विक नेता के रूप में उभरते देख नहीं पा रहे हैं. मोदी को बदनाम करने के लिए वे देश को भी बदनाम कर रहे हैं.
 
बता दें कि पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाले रामनाथ गोयनका अवॉर्ड समारोह में देश में बिगड़ते माहौल पर बॉलीवुड स्टार आमिर खान ने कहा है कि मेरी पत्नी किरण राव भी बच्चों की सुरक्षा को लेकर भयभीत हैं और वे इसकी वजह से देश छोड़ना चाहती हैं.