गुवाहाटी. असम के राज्यपाल पी.बी.आचार्य ने रविवार को कहा कि दुनिया में कहीं भी जुल्म के शिकार किसी भी हिंदू को भारत आने का अधिकार है और यह भारतीयों का फर्ज है कि वे उसका स्वागत करें. राज्यपाल ने कहा, “दुनिया में कहीं भी प्रताड़ित हिंदुओं को भारत आने का पूरा हक है. यह हमारा कर्तव्य है कि हम उनका स्वागत करें. नहीं तो, वे कहां जाएंगे? ये है वह संदर्भ जिसमें मैंने कहा था कि हिंदुस्तान हिंदुओं का है.”
 
यह बयान मीडिया में आए आचार्य के इस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा, “हिंदुस्तान हिंदुओं का है और इसमें कुछ भी गलत नहीं है.” आचार्य ने कहा कि मीडिया के एक हिस्से ने उनका आधा बयान ही छापा जिससे विवाद खड़ा हो गया.
 
राज्यपाल के शनिवार के बयान ने बांग्लादेश से अवैध बांग्लादेशियों के आने की रिपोर्ट और केंद्र की हाल की अधिसूचना, जिसमें कहा गया है कि पाकिस्तान और बांग्लादेश में जुल्म के शिकार धार्मिक अल्पसंख्यक भारत आ सकते हैं, के बीच विवादों को जन्म दिया.
 
इन देशों में रह रहे मुसलमानों के बारे में आचार्य ने कहा, “मुसलमान कहीं भी जा सकते हैं. वे पाकिस्तान जा सकते हैं या भारत जा सकते हैं. जैसे तस्लीमा नसरीन भारत आकर बस गईं.”
 
IANS