मुंबई. दिल्ली पुलिस के पूर्व आयुक्त नीरज कुमार ने दावा किया है कि भगोड़े सरगना दाऊद इब्राहिम को वापस लाना आसान नहीं है क्योंकि उसे ‘दुश्मन देश’ का संरक्षण मिला हुआ है.

नीरज कुमार का कहना है कि हाल में अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन की गिरफ्तारी से भी दाऊद को पकड़ने में ज्यादा मदद मिलने की उम्मीद नहीं है.

उन्होंने पाकिस्तान का नाम नहीं लिये बिना कहा कि जहां उसके छुपे होने का संदेह है, हम यह नहीं कह सकते कि ऐसा आईएसआई की वजह से है या देश की राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी के चलते है, लेकिन दाऊद दुश्मन देश के संरक्षण में है.

नीरज कुमार ने ये सभी बातें अपनी पुस्तक ‘डायल डी फार डॉन’ के विमोचन के दौरान कही हैं. यह पुस्तक इसलिए सुखिर्यों में हैं क्योंकि कुमार ने यह खुलासा किया है कि 1990 के दशक के दौरान एक बार दाऊद आत्मसमर्पण करना चाहता था.

नीरज कुमार का कहना है कि 1994 में मैंने दाऊद से तीन बार फोन पर बात की जब मैं सीबीआई में 1993 मुम्बई श्रृंखलाबद्ध विस्फोटों की जांच कर रहा था और एक बार बात 2013 में दिल्ली में मेरे आयुक्त के तौर पर कार्यकाल के अंतिम दिनों में हुई थी.