न्यूयार्क. टाइम मैगजीन ‘पर्सन ऑफ द ईयर-2015’  की रेस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम शामिल किया गया है. मोदी के अलावा भारत से रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी और भारतीय मूल के गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई भी शामिल हैं.

चौंकाने वाली बात ये है कि पिछले साल की तरह इस बार भी आतंकी संगठन आईएसआईएस का चीफ अबु बक्र अल बगदादी भी दावेदारों में है. बता दें कि  मैगजीन लिस्ट में उन लोगों को रखती है, जिन्होंने बीते साल अच्छे या बुरे वजहों से हमारे जीवन को प्रभावित किया.

खिताब के दावेदारों में लीडर्स, बिजनेसमैन और एंटरटेनमेंट सेक्टर की 58 नामचीन हस्तियां हैं. इस रेस में अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी शामिल है.

फेसऑफ पोल में मोदी बनाम जिनपिंग

मैगजीन ने अलग से एक फेसऑफ पोल भी रखा है. इसमें 27 दिग्गजों को आमने-सामने रखा गया है. मोदी के सामने चीन के प्रेसिडेंट शी जिनपिंग हैं, तो मुकेश अंबानी के मुकाबले नाइजीरिया के प्रेसिडेंट मुहम्मद बुहारी को रखा गया है.

पोप फ्रांसिस बनाम मलाला

‘पर्सन ऑफ द ईयर-2015’  खिताब के लिए जारी वोटिंग पर नजर डालें, तो मलाला 4.9% वोट के साथ दूसरे पायदान पर है, जबकि 3.8% वोट के साथ पोप फ्रांसिस तीसरे नंबर पर बने हुए हैं. जारी वोटिंग की टॉप-10 लिस्ट में यूएस प्रेसिडेंट बराक ओबामा 3.6% वोट के साथ पांचवें नंबर पर बने हुए हैं.

कौन-कौन हैं शामिल ?

खिताब के दावेदारों में फ्रांस के राष्‍ट्रपति फ्रांस्‍वा ओलांद, चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग, अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन, इलेक्‍ट्रॉनिक कार बनाने वाली कंपनी टेस्ला के हेड एलॉन मुश्‍क, एप्‍पल के सीईओ टिम कुक और फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग शामिल हैं.

9 दिसंबर को होगी खिताब की घोषणा

टाइम मैगजीन ने रीडर्स से ‘पर्सन ऑफ द ईयर-2015’ के लिए वोट की अपील की है. जिसके बाद टाइम पर्सन ऑफ द ईयर एडिटर्स च्‍वॉइस को सम्‍मानित किया जाएगा, रीडर्स 4 दिसंबर, रात 11.59 तक ही अपनी राय दे सकते हैं. बता दें कि 9 दिसंबर को टाइम ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ की घोषणा कर दी जाएगी.