नई दिल्ली. पेरिस में आतंक मचा रहा आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) की नज़र अब भारत के युवाओं पर है. एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत की खुफिया एजेंसियों ने देश के करीब डेढ़ सौ युवकों पर ISIS की तरफ झुकाव रखने का शक जताया है, इन सभी 150 युवकों पर नज़र भी रखी जा रही है. जिन 150 युवकों पर ये शक है उनमें से अधिकतर दक्षिण भारत के हैं, जो की इंटरनेट के जरिये ISIS की गतिविधियों के संपर्क में आए हैं. 
 
राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारत भी खतरे से परे नहीं है. खतरा इसलिए भी दिखता है क्योंकि पेरिस का हमला सात साल पहले मुंबई में हमले जैसा बताया जा रहा है. नवंबर 2008 में मुंबई पर हुए आतंकी हमले में 150 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. भारत से अब तक 23 लोग ISIS के लिए इराक और सीरिया में जा चुके हैं. जिनमें से 6 की मौत हो गई है जबकि एक वापस मुंबई लौट आया है. हाल ही में सरकार ने भी माना था कि भारत में भी आईएस का खतरा है. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि हम इस खतरे से निपटने की तैयारी में जुटे हुए हैं.
 
राजनाथ ने कहा कि यह समस्या किसी एक मुल्क या इलाके की नहीं है. बल्कि पूरे विश्व को एक साथ मिलकर इसका सामना करना होगा. उन्होंने कहा कि भारत भी इसके खिलाफ अपनी तैयारियों में लगा. जबकि इससे पहले पेरिस हमले के बाद दुनिया भर में आतंकवाद पर छिड़ी नई बहस के बीच जमीयत उलेमा ए हिंद ने बीते दिन देशभर में 75 स्थानों पर आतंकवाद और आईएसआईएस के खिलाफ प्रदर्शन किया.
 
एजेंसी इनपुट भी