नई दिल्ली. विश्व हिंदु परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंघल का सांस की बीमारी के बाद गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया है. सिंघल कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे.

साल 1980 में अशोक सिंघल को विश्व हिंदू परिषद में संयुक्त महासचिव नियुक्त किया गया. 1984 में वह इसके महासचिव बने और फिर अध्यक्ष बने. अशोक सिंघल अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर अपने आक्रामक तेवरों के लिए पहचाने जाते हैं. सिंघल कई मौकों पर अपने बयानों को लेकर भी विवादों में रहे हैं.

‘2020 तक भारत बनेगा हिंदू राष्ट्र

कुछ दिन पहले अशोक सिंघल ने कहा था कि वो साईं बाबा के आश्रम में गए थे. जहां उन्हें साईं बाबा ने कहा कि 2020 तक भारत एक हिंदू राष्ट्र और 2030 तक दुनिया हिंदू हिंदू धर्म को अपना लेगी.

4 बच्चे पैदा करें हिंदू महिलाएं

साक्षी महाराज और साध्वी प्राची के बाद अशोक सिंघल ने भी 4 बच्चे पैदा करने की वकालत की थी. उन्होंने कहा था कि 4 बच्चे पैदा करने पर उन्हें पालने में कोई दिक्कत नहीं आएगी, क्योंकि भगवान सारी समस्याओँ को खुद ही दूर कर देते हैं.

800 साल बाद आई दिल्ली में हिंदू सरकार

नवम्बर 2014 में सिंघल ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि 800 साल बाद दिल्ली में हिंदू स्वाभिमानियों के हाथ सत्ता आई है. दिल्ली में पृथ्वीराज चौहान के बाद पहली बार हिंदुओं को सत्ता मिली है.

गोधरा कांड की वजह से देश को मिले मोदी

सिंघल ने देश में इस्लाम को मानने वाले लोगों पर निशाना साधते हुए कहा था कि गोधरा में जिहादी इस्लाम ने कार सेवकों को जिंदा जला दिया और उसी का नतीजा है कि देश को नरेंद्र मोदी जैसा व्यक्ति मिला.

केजरीवाल को नकस्लियों का समर्थन

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए अशोक सिंघल ने कहा था कि केजरीवाल को नक्सलियों का समर्थन मिला हुआ है. साथ ही केजरीवाल को विदेश से भी फंड मिलता है. यह फंड उन्हें देश में अशांति फैलाने के लिए दिया जाता है. इसी वजह से केजरीवाल झूठे बयान देकर भ्रम की स्थिति पैदा करते रहते हैं.