मुंबई. किसानों की आत्महत्या के मामलों में महाराष्ट्र ने इस साल नया रिकॉर्ड कायम किया है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले सभी रिकॉर्ड्स को तोड़ते हुए इस साल महाराष्ट्र में अभी तक कुल 2,016 किसानों ने आत्महत्या की है. साल 2014 में यह आंकड़ा 1949 था.
 
बता दें कि किसानों की आत्महत्या के मामले में पिछले कई सालों से महाराष्ट्र टॉप पर रहा है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक साल 2009 में 1600, साल 2010 में 1740, 2011 में 1495, 2012 में 1467, 2013 में 1298 किसानों ने आत्महत्या की थी. सालर 2011 के बाद से किसानों की आत्महत्या के मामले में कमी देखने को मिली थी लेकिन पिछले 2 सालों में इन आंकड़ों में खासी वृद्धि देखने को मिली है. 
 
महाराष्ट्र के विदर्भ और मराठवाड़ा में सबसे ज्यादा किसानों की आत्महत्या के मामले सामने आए हैं. विदर्भ में सितंबर महीने तक कुल 1010 मामले सामने आए हैं  जबकि 695 मामलों के साथ मराठवाड़ा दूसरे नंबर पर रहा है. सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक महाराष्ट्र के कुल 19 जिले सूखे की चपेट में हैं और यहीं के किसान आत्महत्या कर रहे हैं.