पटना. बीजेपी नेतृत्व के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा है कि उन्होंने कभी खुद को सीएम पद का उम्मीदवार नहीं बताया, न ही यह कहा कि वे सीएम पद के उम्मीदवार होते तो बिहार का रिजल्ट कुछ और होता. उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया ने उनके बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया है.
 

 
शत्रुघ्न ने ट्वीट कर यह भी कहा कि हमें हार की जिम्मेदारी से शर्माना नहीं चाहिए. शत्रुघ्न ने कहा कि उनके कहने का मतलब ये था कि ‘अगर उन्हें भी कैंपेन में शामिल किया गया होता तो रिजल्ट कुछ और होता.’ आज ट्वीट कर उन्होंने मुख्यमंत्री पद संबंधी बयान पर सफाई देते हुए अरुण जेटली जैसे नेता को चेताया कि ‘वे राज्यसभा के सांसद नहीं हैं. जनता के भारी समर्थन से यहां तक आए हैं और रिकॉर्ड वोटों से दो लोकसभा चुनाव जीता है.’
 

उल्लेखनीय है कि बिहार में बीजेपी के चुनावी अभियान में शत्रुघ्न जैसे नेताओं को पूरी तरह नजरअंदाज किया गया था. चुनाव के दौरान दूसरे नेता तो चुप रहे, लेकिन शत्रुघ्न ने लगातार बीजेपी के ऊपर जमकर निशाना साधा. चुनाव के बाद उनका ये बयान भी प्रमुखता से छपा कि ‘वे सीएम उम्मीदवार होते तो नतीजे कुछ अलग होते.’ आज एक पर एक कई ट्वीट कर उन्होंने कहा कि उन्हें भी कैंपेन में शामिल किया गया होता तो कई सीटों पर उनके समर्थक और वोटर बदलाव (नतीजों में ) कर सकते थे. अब नतीजे आ गए हैं तो हमें हार की जिम्मेदारी सुनिश्चित करने से शर्माना नहीं चाहिए.