चेन्नई. भारतीय दूरसंचार उपग्रह ‘जीसैट-15’ यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी एरियनस्पेस के रॉकेट ‘एरियन 5’ की सहायता से सफलतापूर्वक प्रक्षेपित कर दिया गया. अंतरिक्ष एजेंसी ने बुधवार को यह जानकारी दी. एरियनस्पेस ने एक बयान में कहा कि उसने दो ग्राहकों- भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और अरबसैट के लिए सफलतापूर्वक दो दूसंचार उपग्रहों ‘जीसैट-15’ और ‘अरबसैट-6बी’ का प्रक्षेपण किया है.
 
वैश्विक उपग्रह प्रक्षेपण कंपनी के मुताबिक, इन दो उपग्रहों के प्रक्षेपण के बाद एरियन रॉकेट की सहायता से प्रक्षेपित किए गए लगातार सफल उपग्रहों की संख्या 69 हो गई है. रॉकेट, फ्रांसीसी गुयाना से दो उपग्रह लेकर चला और लगभग 43 मिनटों में अपना मिशन पूरा कर लिया. 
 
इसरो उपग्रह केंद्र के निदेशक एम. अन्नादुरै ने एक बयान में कहा, “यह प्रक्षेपण एरियनस्पेस के साथ इसरो का 19वां मिशन है. इसी बीच इसरो ने ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) की सहायता से भारत के अपने चार फ्रांसीसी अंतरिक्ष यान प्रक्षेपित किए हैं.”
 
‘जीसैट-15’ को देशभर में दूरसंचार सेवाओं के साथ ही समर्पित नेविगेशन सहायता और आपातकालीन सेवाएं प्रदान करने के लिहाज से तैयार किया गया है.
 
 
भारतीय दूरसंचार उपग्रह, जीसैट-15, अंतरिक्ष एजेंसी एरियनस्पेस, एरियन 5, इसरो, Indian telecommunications satellite , GSAT-15 , space consortium Arianespace , Ariane 5 , ISRO