नई दिल्ली. बिहार चुनाव के नतीजों की बीजेपी संसदीय बोर्ड में समीक्षा के बाद पार्टी ने कहा है कि बीजेपी और उसकी अगुवाई वाले एनडीए की हार किसी बयान या विवाद से नहीं बल्कि वोटगणित के कारण हुई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत तमाम वरिष्ठ बीजेपी नेता बैठक में मौजूद थे.
 
बीजेपी के वरिष्ठ नेता और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बैठक के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि महागठबंधन के घटक दलों को हमने कम आंका लेकिन वो अपना वोट एक-दूसरे को ट्रांसफर कराने में कामयाब रहे. उन्होंने कहा कि कोई चुनाव एक बयान के ऊपर तय नहीं होता है बल्कि चुनाव का अपना ही गणित होता है.
 
जेटली ने कहा कि बीजेपी बिहार के जनादेश को स्वीकार करती है और उम्मीद करती है कि नई सरकार राज्य की प्रगति के लिए काम करेगी. उन्होंने कहा कि बीजेपी राज्य में एक मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाएगी और केंद्र सरकार बिहार के विकास के लिए राज्य सरकार को पूरी मदद करेगी. 
 
आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण की समीक्षा वाले बयान को लेकर पत्रकारों के सवाल पर जेटली ने कहा कि हमने सामाजिक संरचना के आधार पर मिले आरक्षण को स्वीकारा है और आरएसएस भी इसे मानता है, इस पर भ्रम की कोई वजह नहीं है.