नई दिल्ली. बीजेपी के पूर्व नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी ने बिहार में एनडीए की करारी हार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और अरुण जेटली को जिम्मेदार ठहराया है.

अरुण शौरी ने कहा कि मोदी सरकार की तरफ से किए गए वादों के पूरा न होने की वजह से मोदी पर फोकस अभियान में भरोसे की कमी थी. उन्होंने कहा कि हार के लिए बीजेपी की ‘विभाजक नीतियां’ जिम्मेदार हैं.

अरूण शौरी ने ये भी कहा कि हार के बाद पार्टी में नेतृत्व के खिलाफ ‘शांत असहयोग आंदोलन’ अब और ज्यादा गहराएगा. उन्होंने शाह और जेटली पर मोदी के खिलाफ एक ऐसा घेरा बनाने का आरोप लगाया है जिसकी वजह से विपक्षी दलों ने एकजुट होकर महागठबंधन बनाया, जिनके हाथ में 69 प्रतिशत से अधिक वोट थे.

शौरी ने कहा कि बीजेपी महज 31 प्रतिशत वोटों के साथ मोदी की लोकप्रियता की वजह से सत्ता में आई थी. शाह,जेटली और मोदी को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी या सरकार में इन तीन के अलावा कोई चौथा व्यक्ति नहीं है.