बर्लिन. भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि आतंकवादियों एवं उनकी मदद कर रहे लोगों को अलग-थलग करने की जरूरत है और सभी मानवतावादी ताकतों को इस बुराई से लड़ने के लिए सम्मिलित प्रयास करना चाहिए. जर्मनी यात्रा के दौरान मोदी ने जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल के साथ संयुक्त रूप से एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘आतंकवाद से मानवता को खतरा है. परंपराएं अलग-अलग हो सकती हैं, लेकिन मानवतावादी ताकतों को एक साथ आना चाहिए और सभी मानवतावादी ताकतों को एक स्वर में अपनी आवाज उठानी चाहिए और एकजुट प्रयास करने चाहिए.’

मोदी ने कहा, ‘इससे पहले जब हम आतंकवाद के बारे में बातें करते थे तो लोग इसे कानून-व्यवस्था की समस्या कहा करते थे. अब उन्हें अहसास हुआ है कि यह कितनी गंभीर समस्या है. पाकिस्तान का जिक्र करते हुए भारतीय प्रधानमंत्री ने कहा, ‘उन सरकारों पर दबाव बनाया जाना चाहिए, जो आतंकवादियों को पनाह दे रही हैं. हमें आतंकवादियों और उन्हें मदद देने वालों को अलग-थलग करने की दिशा में प्रयास करना चाहिए. आतंकवाद को परिभाषित करने वाला प्रस्ताव लंबे समय से लंबित पड़ा हुआ है. मैं संयुक्त राष्ट्र से इस प्रस्ताव को पारित करने और आतंकवाद को परिभाषित करने का अनुरोध करता हूं. इसके बाद ही हम आतंकवाद के खिलाफ लोगों को एकजुट कर पाएंगे.’ 

IANS