नई दिल्ली. केंद्र सरकार के समर्थन में आज दिल्ली में राष्ट्रपति भवन तक अभिनेता अनुपम खेर की अगुवाई में मार्च निकाला जा रहा है. मार्च के दौरान अनुपम खेर ने अपने भाषण में कहा कि भारत में बिल्कुल भी असहिष्णुता नहीं है. उन्होंने कहा कि भारत सबसे ज्यादा सहिष्णु देश है.

‘मार्च फॉर इंडिया’ के नाम से निकाला जा रहे इस मार्च में निर्देश मधुर भंडारकर, गायिका मालिनी अवस्थी, बिरजू महाराज, अशोक पंडित सहित कई कलाकार और लेखक शामिल हुए हैं.

मार्च में शामिल लोगों को संबोधित करते हुए अनुपम खेर ने कहा है कि अवॉर्ड लौटाना बिल्कुल गलत है. उन्होंने कहा कि अवॉर्ड लौटाने वालों ने एक बार भी सरकार से बात नहीं की. उन्होंने कहा कि हम एक महान देश के वासी है. हम विवाद हो जाने के बाद भी मिलकर रहते हैं.

मार्च निकालने से पहले अनुपम खेर ने कहा कि हम मार्च में ना तो किसी की बुराई करेंगे और ना ही हॉय-हॉय के नारे लगाएंगे. बता दें कि अनुपम खेर ये मार्च लेखकों द्वारा सरकार को लौटाए गए अवार्ड के खिलाफ निकाल रहे हैं. मार्च निकालने के बाद ये लोग राष्ट्रपति को एक ज्ञापन भी सौंपेंगे.

अनुपम खेर का कहना है कि ‘वो देश की छवि खराब करने के लिए की जा रही साज़िश को सफल नहीं होने देंगे. भारत एक सहनशील देश है और इसी संदेश के साथ हम राष्‍ट्रपति से मिलेंगे।’ खेर ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री से मिलने का अनुरोध किया है ताकि मार्च फॉर इंडिया में शामिल हो रहे लोग अपने विचार पीएम से साझा कर सकें.