नागपुर. राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) ने दावा किया है कि उनके संगठन की तरफ देश के लोगों का झुकाव अप्रत्याशित रूप से बढ़ता जा रहा है. राष्ट्रीय प्रचार प्रमुख डा मनमोहन वैद्य के मुताबिक़ RSS ज्वाइन करने वाले लोगों की तादात में पिछले चार सालों में साढ़े इक्कीस सौ प्रतिशत का इज़ाफ़ा हुआ है. 2011 तक सिर्फ़ 354 लोग हर महीने संघ से जुड़ रहे थे लेकिन अब यह संख्या आठ हज़ार तक पहुंच गई है.
 
मोदी राज में जुड़ी 6684 नई शाखाएं
पिछले दशक में अपनी शाखाओं में करीब 10,000 की बढ़ोत्तरी की है और उनमें से आधी से अधिक शाखाओं की वृद्धि तो पिछले एक साल में हुई है. RSS के एक वरिष्ठ नेता ने आज यहां बताया कि फिलहाल देशभर में संघ की 50,432 शाखाएं लगती हैं.
 
दीपक तामशेट्यार ने कहा कि आरएसएस की शाखाएं बढ़ती जा रही हैं और स्कूलों एवं कॉलेजों विशेषकर मेडिसिन, इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी में उच्च अध्ययन करने वाले अधिकाधिक युवक संघ की ओर आकषिर्त हो रहे हैं.’
 
उन्होंने बताया कि नवंबर 2014 से अबतक 6684 नई शाखाएं जुड़ी हैं. आरएसएस की 55,435 मंडलों (दस या अधिक गांवों के क्लस्टर) में अपनी उपस्थिति बढ़ाने और 2018 तक अपनी शाखाओं में 20 हजार की वृद्धि करने की योजना है.