श्रीनगर. लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) का आतंकवादी और पांच अगस्त को उधमपुर में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के काफिले पर हमले का मुख्य साजिशकर्ता अबु कासिम मारा गया. सुरक्षा बलों ने जम्मू एवं कश्मीर में उसे एक मुठभेड़ में मार गिराया. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि अबु कासिम को कुलगाम जिले के खांडेपोरा गांव में सुरक्षाबलों ने बुधवार रात की गई कार्रवाई में मार गिराया. 
 
इसके अलावा उन्होंने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ चल रहे अभियानों में अबु कासिम का मारा जाना सुरक्षाबलों के लिए एक बड़ी सफलता है. सुरक्षा बलों ने अबु कासिम की गतिविधियों की सूचना मिलने के बाद कार्रवाई की थी.
 
अबु कासिम का असली नाम अब्दुल रहमान था और वह पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के बहावलपुर जिले का निवासी था. वह पिछले करीब पांच साल से राज्य में सक्रिय था और जम्मू एवं कश्मीर में सर्वाधिक वांछित (मोस्टवांटेड) आतंकवादी कमांडर था.
 
अबु कासिम कश्मीर क्षेत्र में पिछले तीन साल में लश्कर-ए-तैयबा की गतिविधियों में सीधे या परोक्ष रूप से शामिल था.
 
अधिकारीयों के अनुसार, वह अन्य आतंकवादी संगठनों, जैसे हिजबुल मुजाहिद्दीन के साथ भी काम कर रहा था और उसकी मौत लश्कर के लिए ही नहीं, बल्कि राज्य के कई आतंकवादी संगठनों के लिए भी बड़ा झटका है. अबु कासिम इस महीने की शुरुआत में आतंकवाद निरोधक टीम के शीर्ष पुलिस अधिकारी मोहम्मद अलताफ डार की हत्या और पांच अगस्त को उधमपुर में बीएसएफ के काफिले पर हमले में भी शामिल था.