नई दिल्ली. केंद्र सरकार पूर्व सैनिकों को दीपावली पर बड़ा तोहफा देने की तैयारी में है. कई सालों से अटकी पड़ी वन रैंक वन पेंशन (OROP) योजना को लेकर सरकार और पूर्व सैनिकों के बीच सहमति बनने के बाद अब दीपावली से इसे लागू कर दिए जाने की खबर है.
 
सूत्रों के मुताबिक, इस संबंध में सभी जरूरी कागजी काम पूरे कर लिए गए हैं, अब बिहार चुनाव खत्म होने का इंतजार है. चुनावी आचार संहिता खत्म होते ही सरकार OROP लागू करने की घोषणा करेगी. सरकार दिवाली से पहले ही इसे लागू करने की योजना पर काम कर रही है.
 
बता दें कि पांच सितंबर को रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पूर्व सैनिकों की मांग को पूरा करते हुए वन रैंक वन पेंशन का ऐलान किया था. रक्षा मंत्री ने कहा था, ‘हमने 40 साल पुरानी मांग पूरी करके अपना वादा पूरा कर दिया है.’ सरकार के फैसले पर पूर्व सैनिकों ने संतुष्टि जताई थी.
 
चार किश्तों में मिलेगा एरियर 
वन रैंक वन पेशन योजना 1 जुलाई 2014 से लागू होगी और पूर्व सैनिकों को चार छमाही किश्तों में एरियर मिलेगा. समान पद पर समान पेंशन मिलेगी. पूर्व सैनिकों की विधवाओं को बकाया एकमुश्त दिया जाएगा. वन रैंक वन पेंशन के लिए 2013 को आधार वर्ष माना जाएगा. सरकार का अनुमान है कि वन रैंक वन पेंशन का एरियर देने में सरकारी खजाने पर 10 से 12 हजार करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा. पिछली सरकार ने 2014 के बजट में इसके लिए 500 करोड़ रुपये का प्रावधान किया था, लेकिन इस पर 8 से 10 हजार करोड़ खर्च होंगे, जिसमें भविष्य में बढ़ोतरी भी होगी.