यमुनानगर. हरियाणा में एक और दलित युवक को जलाकर मार डालने का मामला सामने आया है. यह घटना बीते मंगलवार को हरियाणा के दौलतपुर गांव में हुई. पुलिस इस घटना के पीछे पुरानी रंजिश बता रही है. 
 
पुलिस का कहना है कि दौलतपुर के पूर्व प्रधान ने अपने परिवार के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया है. पुलिस ने बताया कि कुछ दिनों पहले दोनों परिवारों के बीच झगडा हुआ था. इसमें रजत को गिरफ्तार किया गया था लेकिन 20 अक्टूबर को उसको जमानत पर रिहा कर दिया गया था. वहीं पीड़ित के पिता केहर सिंह का आरोप है कि पू्र्व प्रधान राम स्वरुप और उनके घर के लोगों ने उनके बेटे रजत पर मिट्टी का तेल डालकर उसे आग लगा दी.
 
पुलिस ने इस घटना की शुरुआती जांच करने के बाद कहा कि रजत ने खुद पर मिट्टी तेल डालकर आत्महत्या की है. फॉरेंसिक टीम ने गांव में जाकर वहां से सबूत इकट्ठे कर लिए हैं. इस मामले में प्रधान स्वरुप, उनकी पत्नी मुख्तायरी और उनके दो बेटों सहित अन्य दो लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. मामले की जांच चल रही है लेकिन अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है.
 
हरियाणा में यह ऐसी पहली घटना नहीं है जब किसी दलित परिवार के साथ ऐसी घटना हुई है. इससे पहले भी हरियाणा के फरीदाबाद के सुनपेड़ गांव में दो बच्चों समेत चार दलितों को जिंदा जलाने का मामला सामने आया था जिसमें दो मासूमों की मौत हो गई थी. इस घटना के महज दो दिन बाद ही सोनीपत के गोहाना थाना क्षेत्र में कबूतर चुराने के आरोप में कथित तौर पर पुलिस की पिटाई से 14 साल के एक दलित बच्चे गोविंदा की मौत हो गई थी.