चंडीगढ़. हरियाणा के सोनीपत में एक दलित की संदिग्ध मौत को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आत्महत्या करार दिया है. खट्टर ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के हवाले से कहा कि युवक की मौत गले पर दबाव पड़ने से हुई लगती है. उन्होंने इसे छोटी घटना बताते हुए कहा कि इस पर राजनीति न की जाए. हालांकि खट्टर ने कहा आत्महत्या की वजह जांच के बाद सामने आएगी.
 
खट्टर ने कहा कि पीड़ित परिवार को मुआवज़ा दिया गया है. साथ ही परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दिए जाने की बात कही. खट्टर ने कहा, “इस तरह के मामलों को जातीय रंग देना सही नहीं है.” सोनीपत पुलिस के मुताबिक इस घटना के संबंध में दो पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ क़त्ल का केस दर्ज हुआ है.
 
गोविंदा नाम के एक किशोर के परिजनों ने पुलिस पर ‘हिरासत में हत्या’ के आरोप लगाए हैं. उनका कहना है कि पुलिस ने चोरी के मामले में हिरासत में लिए गए 15 साल के किशोर को रिहा करने के बदले रिश्वत की मांग की थी जिसके न दिए जाने पर उसकी हत्या कर दी गई. गोहाना के थानाध्यक्ष ऋषिकांत ने बताया कि गोविंदा पर कबूतर चोरी के आरोप लगाए गए थे. लेकिन पुलिस को इस संबंध में कोई शिकायत नहीं दी गई थी. आरोप लगाने वालों और गोविंदा के परिजनों ने बाहर ही फ़ैसला कर लिया.