फरीदाबाद. फरीदाबाद के सुनपेड़ गांव में दो दलित बच्चों को जिंदा जलाने के मामले में नया खुलासा हुआ है. जिस परिवार के बच्चों की हत्या हुई है और जिस परिवार पर हत्या का आरोप है, इन दोनों परिवारों के पांच लोगों की अक्टूबर, 2014 से अब तक हत्या हो चुकी है.
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक मारे गए दो दलित बच्चों से पहले अक्टूबर, 2014 में बच्चों की हत्या में आरोपी बनाए गए बलवंत सिंह के परिवार के तीन लोगों की हत्या हुई थी. हत्या के उस मामले में दलित बच्चों के पिता जितेंद्र के परिवार के नौ लोग ट्रायल का सामना कर रहे हैं.
 
वहीं दलित बच्चों की हत्या के मामले में अब तक पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. जितेंद्र की पत्नी का बयान मजिस्ट्रेट के सामने दर्ज करा दिया गया है. पुलिस के मुताबिक पत्नी ने बयान में बताया कि आधी रात उनके घर पर हमला किया गया और उनके पति आरोपियों को जानते हैं.
 
जितेंद्र ने लगाए बलवंत परिवार के 11 लोगों पर आरोप
 
दलित परिवार पर हमले के बाद मारे गए दो बच्चों के पिता जितेंद्र ने सुनपेड़ गांव के 11 राजपूतों पर अपने बच्चों को जिंदा जलाने का आरोप लगाया है. आरोपियों में बलवंत के बेटे और भाई का नाम भी शामिल है.
 
फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर सुभाष यादव ने बताया कि मामले की जांच चल रही है. इस समय कुछ भी कहा नहीं जा सकता. जितेंद्र और उनकी पत्नी का इलाज अलग-अलग अस्पताल में चल रहा है.