पेरिस. फ्रांस दौरे पर गए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत और फ्रांस के रिश्तों को लेकर गर्मजोशी दिखाई है. मोदी ने यहां भारतीयों के एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘भारत-फ्रांस का विशेष संबंध रहा है. फ्रांस में कोई आतंकी हमला होता है, तो भारत को दर्द होता है. भारत के अन्याय होता है तो फ्रांस में आवाज उठती है. विश्व भारत को जानेगा भी और मानेगा भी. इन दिनों आर्थिक पैरामीटर का आंकलन आता है इसमें विश्व पटल पर सब मान रही है कि भारत आर्थिक के साथ हर क्षेत्र में बहुत गतिशील है.’ मोदी ने यहां ‘मेक इंडिया’ योजना का भी जिक्र किया.

शनिवार को नेउवे चैपेल स्थित भारतीय स्मारक में प्रथम विश्व युद्ध के दौरान शहीद हुए भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि दी. उत्तरी फ्रांस के नेउवे चैपेल के पास यह स्मारक उन 4,700 भारतीय सैनिकों व मजदूरों की याद में बना है, जिन्होंने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान अपने प्राणों की आहूति दे दी थी. प्रधानमंत्री द्वारा शहीदों को याद करते समय राष्ट्रगान बजाया गया. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरूद्दीन ने ट्वीट किया, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेउवे चैपेल स्थित शहीद स्मारक पर बहादुरों की वीरता को याद किया.’

इस स्मारक को ब्रिटिश वास्तुविद् सर हर्बर्ट बेकर ने डिजाइन किया था, जिसका अनावरण सात अक्टूबर, 1927 को अर्ल ऑफ बिरकेनहेड ने किया था. इससे पहले मोदी शनिवार दोपहर टुलूज से उत्तरी फ्रांस के शहर लिली पहुंचे. भारतीय प्रधानमंत्री जैसे ही वहां पहुंचे, विद्यार्थियों ने जोश और उत्साह में ‘मोदी’ ‘मोदी’ के नारे भी लगाए. इससे पहले मोदी ने टुलूज स्थित एयरबस संयंत्र का दौरा किया और फ्रेंच अंतरिक्ष एजेंसी (सीएनईएस) गए.