नई दिल्ली.  केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शिवसेना पर बड़ा हमला किया है. उन्होंने कहा है कि विरोध करने का तरीका लोकतान्त्रिक होना चाहिए. तर्कों से साथ अपनी बात रखनी चाहिए. इसके अलावा उन्होंने कहा कि पब्लिसिटी के लिए हंगामा न करें. उन्होंने इन सभी घटनाओं को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. जेटली ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि बीजेपी में विरोध करने के लिए किसी ने इतना हिंसक तरीका अपनाया हो. 
 
बता दें कि शिव सेना के प्रदर्शन के बाद इंडियन क्रिकेट बोर्ड ने पीसीबी चीफ शहरयार खान से बातचीत रद्द कर दी है. सोमवार बीसीसीआई के दफ्तर में करीब 100 शिवसैनिक घुस गए और नारेबाजी की. शिवसेना ने शहरयार खान के खिलाफ मुर्दाबाद, पाकिस्तान हाय-हाय के नारे लगाए. शिवसेना का कहना है कि हम पाकिस्तान के साथ क्रिकेट संबंध नहीं रखने देंगे.
 
इससे पहले भी शिवसेना ने सुधींद्र कुलकर्णी के चेहरे पर स्याही पोती थी और गुलाम अली के संगीत समारोह को भी मुंबई में नहीं होने दिया था.