नई दिल्ली. देश में बढ़ती सांप्रदायिक घटनाओं के बीच राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने देशवासियों से फिर भाईचारे और एकता बनाए रखने की बात कही है. एक कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि हालात कैसे भी क्यों न हों, समाज में मानवता और बहुलता के मूल्यों से समझौता नहीं करना चाहिए.  उम्मीद है विभाजनकारी तत्वों का नाश होगा.

राष्ट्रपति ने कहा ‘भारत हमेशा से अपनी विविधता और सहिष्णुता के लिए जाना जाता है. अगर ऐसा नहीं होता तो भारत की सभ्यता 5 हजार सालों का सफर तय नहीं कर पाती.’  

बता दें कि इससे पहले राष्ट्रपति ने उत्तर प्रदेश में दादरी के बिसहड़ा गांव में गोमांस की अफवाह पर हुए हत्या के बाद देशवासियों से शांति की अपील की थी.  उन्होंने कहा था कि इस प्रकार की घटनाओं से हम अपनी सभ्यता के मूल को नष्ट नहीं कर सकते जिससे हमें सावधान रहने की जरूरत है.