नई दिल्ली. हिन्दू महसभा ने 15 नवम्बर को  नाथूराम गोडसे की पुण्य तिथि को बलिदान दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है. 15 नवम्बर को ही महात्मा गांधी की हत्या के लिए गोडसे को फांसी दी गई थी. इससे पहले भी हिन्दू महासभा गोडसे के मंदिर बनाने के कारण चर्चा में आई थी.  
 
अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के अध्यक्ष चंद्रप्रकाश कौशिक ने कहा है कि पूरे भारत में गोडसे की पुण्य तिथि को बलिदान दिवस के रूप में मनाएंगे. गोडसे को अंबाला जेल में 15 नवंबर 1949 को फांसी पर लटकाया गया था.  
 
एक अंग्रेजी अखबार इकोनॉमिक्स टाइम्स से बातचीत करते हुए कहा कि हिन्दू महासभा की पूरे भारत में ‘गांधी वध क्यों’ किताब बांटने की योजना है. यह किताब नाथूराम गोडसे के छोटे भाई गोपाल गोडसे ने लिखी है.