श्रीनगर. जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर ऊधमपुर में पिछले नौ अक्टूबर को एक ट्रक पर हुए बम हमले में घायल 16 वर्षीय किशोर की मौत हो गई. इस खबर के बाद रविवार को कश्मीर घाटी में हिंसा भड़क उठी है. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने  बताया, घायल जाहिद रसूल बट का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था. इलाज के दौरान रविवार को उसकी मौत हो गई.
 
ऊधमपुर कस्बे में जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर एक भीड़ ने एक खड़े ट्रक पर पेट्रोल बम फेंका था. इस हमले में बट और अनंतनाग जिले के एक अन्य व्यक्ति शौकत अहमद डार(35) गंभीर रूप से घायल हो गए थे.
 
उधमपुर के जिलाधिकारी शाहिद चौधरी ने रविवार को कहा कि इस मामले में पहले से गिरफ्तार पांच हमलावरों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी में अब हत्या के आरोप जोड़ दिए हैं. इनपर सांप्रदायिक उन्माद और दंगा भड़काने के आरोप हैं. आरोपियों में संदूर सिंह, दानिश उर्फ पम्मा, हरीश सिंह, बालबहादुर सिंह और वरिंदर सिंह उर्फ काका शामिल हैं.
 
निर्दलीय विधायक इंजीनियर रशीद द्वारा श्रीनगर में आयोजित एक गोमांस पार्टी के बाद, कथित तौर पर हिंदुओं की भीड़ ने यह हमला किया था. दिल्ली में जाहिद की मौत हो जाने की खबर यहां पहुंचने के बाद कश्मीर घाटी के दक्षिणी अनंतनाग जिले में भीड़ सड़कों पर उतर आई और टायर जलाकर जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग जाम कर दिया.
 
सुरक्षाकर्मियों ने जब उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे तो प्रदर्शनकारियों ने उन पर पथराव भी किया. हुर्रियत के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक ने कहा कि सरकार बट की मौत के लिए जिम्मेदार है, क्योंकि वह ट्रक चालकों को सुरक्षा नहीं प्रदान कर पाई. अलगाववादियों ने कश्मीर घाटी में सोमवार को बंद रखने का आह्वान कर रखा है.
 
हमले में घायल हुए दोनों व्यक्तियों को विशेष इलाज के लिए सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था. दोनों बुरी तरह आग से झुलस गए थे. जम्मू एवं कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मुहम्मद सईद ने तीन दिन पहले अस्पताल जाकर दोनों घायलों से मुलाकात की थी.
 
IANS