राजकोट. एक तरफ रविवार को राजकोट स्टेडियम में भारत और दक्षिण अफ्रीका तीसरा वनडे खेलने उतरेंगे तो दूसरी तरफ पटेल आरक्षण आंदोलन नेता हार्दिक पटेल समर्थकों के साथ मैच देखने का टिकट खरीद चुके हैं. क्रिकेटरों से इतर एक मैच हार्दिक पटेल और प्रशासन के बीच भी कल होना तय है.
 
हार्दिक पटेल ने आरक्षण आंदोलन की बात देश-दुनिया तक पहुंचाने के लिए स्टेडियम को चुना है जहां उन्होंने पटेल समुदाय के लोगों से बड़ी संख्या में टिकट खरीदकर आरक्षण समर्थक टोपी या कपड़े पहनकर आने की अपील की है. हार्दिक ने ये धमकी भी दे रखी है कि उसके समर्थक दोनों देश की टीमों को स्टेडियम में घुसने नहीं देंगे.
 
दो हजार पुलिस जवान तैनात, ड्रोन कैमरा और सीसीटीवी दर्शकों पर रखेंगे नज़र
 
ऐसे में सरकार ने एहतियातन शनिवार की रात 10 बजे से मैच खत्म होने तक राजकोट में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद करा दिया है. स्टेडियम में तीन ड्रोन कैमरा और 90 सीसीटीवी कैमरों से दर्शकों पर नज़र रखी जाएगी ताकि कोई हरकत दिखते ही उसे संभाला जा सके.
 
पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के जबर्दस्त इंतजाम किए हैं. दो हजार से ज्यादा पुलिस जवान के अलावा स्टेट रिजर्व पुलिस की तीन कंपनी, रैपिड एक्शन फोर्स की एक कंपनी, क्विक रिस्पांस पुलिस की एक कंपनी और पांच एसपी राजकोट स्टेडियम में मैच को शांति से कराने के लिए लगाए गए हैं.
 
मैच के टिकट हमारे पास हैं, सरकार रोकने की कोशिश न करे: पटेल
 
हार्दिक पटेल के सहयोगी दिनेश पटेल ने कहा है कि आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल, चिराग पटेल, केतन पटेल और उनके मैच टिकट आ गए हैं. दिनेश पटेल ने कहा कि अगर पुलिस ने उनलोगों को मैच देखने से रोका या हिरासत में लिया तो हालात बिगड़ने की जिम्मेदारी सरकार की होगी. 
 
दिनेश पटेल ने दावा किया है कि समुदाय के 50 हजार लोग मैच देखने आएंगे. पटेल ने कहा कि उन लोगों को ख़बर मिल रही है कि बीजेपी के कार्यकर्ता मैच के दौरान उपद्रव करके आंदोलन को बदनाम करने की साजिश रच रहे हैं.
 
इस बीच सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव निरंजन शाह ने हार्दिक पटेल से मैच के दौरान और स्टेडियम में विरोध प्रदर्शन न करने की अपील की है. निरंजन शाह ने कहा है कि खेल के मैदान को किसी भी मुद्दे के लिए विरोध का मंच नहीं बनाना चाहिए. उन्होंने भरोसा जताया है कि हार्दिक उनकी बात मानेंगे.