लखनऊ. उत्तर प्रदेश के दादरी जिले में हुई हिंसा एक अलग मुद्दा बनता जा रहा है. खुफिया विभाग की ओर से इंटरसेप्ट किए गए कुछ कोड से यह खुलासा हुआ है कि आतंकी संगठन अपनी स्लीपर सेल के जरिए उत्तर प्रदेश के कई जिलों में धमाकों की योजना बना रहे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक आतंकी संगठन दादरी में हुई हिंसा का बदला लेने के मकसद से ही यह साजिश रच रहे हैं.
 
खुफिया सूचना के बाद राज्य में हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया और पुलिस को चौकन्ना रहने के निर्देश दिए गए हैं. दादरी हिंसा का फायदा उठाकर यह आतंकी आने वाले दशहरा और दिवाली जैसे बड़े त्योहारों के मौके पर अशांति फैला सकते हैं. अभी फिलहाल हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है. करीब पांच पेज में इंटरसेप्ट किए गए संदेश में वीएचपी नेता अशोक सिंहल और प्रवीण तोगड़िया पर हमला करने का भी जिक्र है.
 
जीआरपी के एसएसपी गोपेशनाथ खन्ना ने कहा है कि गुरदासपुर में अपने मंसूबों पर पूरी तरह कामयाब न हो पाने के बाद अब आतंकी संगठन दादरी और मैनपुरी में हुई हिंसा का फायदा उठाकर त्योहार के मौके पर अशांति फैला सकते हैं. राज्य में पंचायत चुनाव भी चल रहे हैं. इसके चलते हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है.
 
इंटरसेप्ट से राज्य के सभी वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को मैसेज भेजा गया है, जिनमें डीआईजी, आईजी, एसएसपी स्तर के अधिकारी शामिल हैं. जानकारी के मुताबिक, बातचीत में दो शख्स राज्य में मौजूद अपनी स्लीपर सेल के लोगों के बारे में जानकारी का आदान-प्रदान कर रहे हैं. इस दौरान वह इलाहाबाद में मौजूद एक शख्स के बारे में लगातार बात करते हैं, जो आतंकी संगठन से जुड़े लोगों की सहायता करेगा. बातचीत से खुलासा हुआ है कि वे काशी विश्वनाथ मंदिर, अयोध्या समेत कई प्रमुख स्थलों को निशाना बना सकते हैं.
 
आतंकवादी घुसने की खबर से अफरातफरी मचने के बाद गुरुवार को रेलवे महानिदेशक (डीजी) ने राज्य में आतंकवादी घटनाओं को लेकर अलर्ट जारी कर दिया. यह जानकारी रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी. रेलवे के महानिदेशक जावीद अहमद के मुताबिक, गवर्नमेंट रेलवे पुलिस(जीआरपी) के सभी 65 थानों के लिए यह आतंकी अलर्ट जारी किया गया है. कानपुर, मुरादाबाद, बरेली, गोरखपुर, इलाहाबाद, वाराणसी, गाजियाबाद, मेरठ, आगरा और मथुरा से चलने वाली रेलगाड़ियों पर रेलवे पुलिस बल (आरपीएफ) की निगरानी बढ़ाने का आदेश दिया गया है.
 
कुछ दिन पहले फरूखाबाद रेलवे स्टेशन को भी बम से उड़ाने की धमकी दी गई थी. धमकी देने वालों को गिरफ्तार कर लिया गया था. इसके अलावा उत्तर प्रदेश में रेलवे पटरी को काटने की घटना भी सामने आ चुकी है. ऐसी घटनाओं से रेलवे के अधिकारियों की नींद उड़ी हुई है.
 
रेलवे की मानें तो सुरक्षाबलों की कमी को लेकर नई दिल्ली मुख्यालय को पत्र भेजा गया था. इसके बाद रेलवे के बड़े स्टेशनों पर जीआरपी को आरपीएफ का सहयोग मिल सकेगा. इससे त्योहारी सीजन में जहरखुरानी गिरोह को पकड़ने में मदद मिलेगी.