दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज डीआरडीओ भवन में पूर्व राष्ट्रपति और भारत रत्न डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की जयंती पर उनकी मूर्ति का अनावरण किया. डॉ. कलाम के 84वें जन्‍मदिन पर आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि डॉ. कलाम के नाम पर एक स्मारक बनाया जाएगा. इसके लिए जमीन का अधिग्रहण कर लिया गया है और उनके नाम पर वहां स्मारक बनाया जाएगा.
 
उन्होंने आगे कहा कि कलाम साहब की जिंदगी से जितना मिले उतना सीख लेनी चाहिए. उनकी पूरी जिंदगी मार्गदर्शक है. उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी जनता की सेवा में निकाल दी. पीएम ने कहा कि कलाम साहब इस बात में बिल्कुल विश्वास नहीं रखते थे कि सिर्फ हथियार ही देश को शक्तिशाली बना सकते हैं बल्कि वो इस बात में विश्वास रखते थे कि देश के लोग देश को शक्तिशाली बनाते हैं. पीएम मोदी ने कलाम को याद करते हुए कहा कि वो ऐसे व्यक्ति थे जो अवसर नहीं चुनौतियां तलाश करते थे. 
 
डॉ. कलाम का जन्मदिन 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था. गत 27 जुलाई को उनका निधन हो गया था. वह साल 2002 से 2007 तक राष्ट्रपति थे. राष्ट्रपति बनने से पहले कलाम चार दशक तक वैज्ञानिक और विज्ञान प्रशासक रहे. उन्होंने मुख्य तौर पर रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) में अपनी सेवाएं दीं. देश के मिसाइल मेन के नाम से मशहूर ‘डॉक्टर कलाम’ को 1997 में भारत रत्न से नवाजा गया.