बेंगलुरु. बेंगलुरु में एक कॉल सेंटर कर्मी के गैंगरेप बाद राज्य के गृह मंत्री का शर्मनाक बयान सामने आया है. केगैंगरेप की घटना के बाद गृहमंत्री केजे जॉर्ज ने कहा कि अगर किसी महिला के साथ दो लोग बलात्कार करें, तो वह गैंगरेप नहीं कहलाएगा, उसे सिर्फ़ रेप कहा जाना चाहिए.
 
गृहमंत्री का शर्मनाक बयान
बेंगलुरु में हुई गैंगरेप की इस घटना पर बोलते हुए मंत्री केजे जॉर्ज ने कहा, ‘हम इसे गैंगरेप कैसे कह सकते हैं? गैंग रेप का मतलब चार से पांच लोग लेकिन दुर्भाग्यवश कोई ऐसा अपराध करने वाले लोगों की निंदा नहीं कर रहा.’ इस बयान को लेकर उनकी काफी आलोचना हुई थी. इसके बाद ही उन्होंने सफाई देते हुए अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगी.
 
विवाद होने पर दी सफाई
इसके साथ ही उन्होंने अपनी सफाई में कहा, ‘मैं कार में बैठा था, तभी आप मुझसे सवाल करते हैं… और फिर बस एक बात पकड़ लेते हैं. मैं ऐसा शख्स हूं, जो इस तरह के अपराधों को लेकर काफी गंभीर है. मीडिया को उसकी सराहना करनी चाहिए कि पुलिस ने अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया है. मीडिया और लोगों को इस तरह की चीज़ों की निंदा करनी चाहिए.’
 
मामले में दो संदिग्ध गिरफ्तार
आपको बता दें कि हाल ही में बेंगलुरु शहर में एक बीपीओ कर्मचारी के साथ हुए टेम्पो ट्रैवलर में गैंगरेप की घटना सामने आई थी. बेंगलुरु पुलिस ने इस मामले में 23 साल के सुनील ओमकरप्पा और 27 साल के योगेश मल्लेशप्पा को इस मामले में गिरफ्तार किया है. दोनों ही आरोपी पेशे से ड्राइवर हैं. पुलिस ने बताया कि दोनों आरोपी चिकमगलूर जिले के कादूर गांव से हैं और पिछले 3 साल से बेंगलुरु में रहते हैं.